Thursday, January 5, 2017

तुम्हारी रहूंगी

याद है वो पल,
जब मैं आकाश से गिर रही थी
थी बिलकुल अबोध,
बस अपने अंजाम से डर रही थी
दुनिया की आंधी में मैं तो बिखर ही जाती
तुफान की बेरूखी से लड़ने का कैसे साहस जुटाती
मान लिया था मैंने की मुझे अब मिटना पड़ेगा
कि जाने कहाँ से अचानक मेरे देव तुम आ गए
कवच बनकर मुझपर सीप की तरह
चारो तरफ मुझपर छा गए
पाकर साथ तेरे दामन का मैं
एक नया रंग लेने लगी थी
दूर करके सभी मलिनताओं को
अजब सी चमक से भरने लगी थी
सीप के भीतर मोती पलता है जैसे
पल रही थी मैं बिलकुल ही तेरे रूह में वैसे
पर सोचकर हश्र मोती और सीप का
हो जाते सजल अक्सर मेरे नयन हैं
पाकर रत्नों के सान्निध्य को भी मोती
झेलता विरह की कैसी तपन है
हो सकता है एक दिन,
अनमोल हो जाउंगी मैं
या दुनिया की चकाचौंध में खो जाउंगी मैं
पर ये अस्तित्व तुमसे है तेरा रहेगा
और मैं भी रहूंगी हमेशा तुम्हारी 

Thursday, May 19, 2016

दो पल मिले हैं



जो दो पल मिलें हैं तुमको, संग उनके गुजार देना

सुनकर साँसों धुन उनकी, अपनी धड़कनें संवार लेना

मन हारकर ही तो प्रीत में आती लगन है

कृष्ण पर हारकर दिल अपना, मीरा कितनी मगन है

क्या हुआ अगर जो दोनों नहीं साथ हैं

पर प्रेम का सच्चा एहसास तो है

Friday, September 4, 2009

कैसी बेबसी?

समर्पण की बातें तू क्यूँ करता है,
मुकद्दर में तेरे क्या खोना लिखा है,
दिखती हमेशा भीगी पलकें ही तेरी,
तेरी आँखों को हर पल क्या रोना लिखा है,
डरता है क्यूँ हमेशा तू कदम बढ़ने से,
लौट जाता है वापस थोड़ा सा डगमगाने से,
ज़िन्दगी के साथ रहकर भी पल-पल मरता है,
सपनो को आकार तो देता है,
क्यूँ नही उसमे रंग भरता है तू,
बता तो जरा क्या बात है,
क्या फितरत में तेरी सिर्फ़ सपने संजोना लिखा है,
भावनाओं के अंधेरे में तू भटकता है रहता,
दिल कहता है बहुत कुछ
होठों पर पहरा रहता
करके सबकुछ समर्पित ,
खुश होने की कोशिश है करता
लगता है तुमने अपनी जीवन माला में
ग़मों के मोती पिरोना लिखा है
मुकद्दर में तेर क्या खोना लिखा है,
तन्हाई के सान्निध्य में गुजार देता है रातें
बीत जाते हैं दिन सबको हँसते हंसाते
रखकर दर्द अपने दिल के भीतर ,
करता है तू मुस्कराहट की बातें,
क्या किस्मत में तेरी, तेरे दर्द को ,
तेरे आंसू से ही भिगोना लिखा है?
मुकद्दर में तेरे क्या खोना लिखा है?
कोई चोट दिल में तेरे जा लगी है
हँसी है होठों पर दूर फिर भी खुशी है,
आँखों में है दिखती एक बेबसी है
बाँट ले अपने दर्द तू मुझसे
हो सकता है हमें संग होना लिखा है...

Friday, August 28, 2009

छोटी सी है चाहत

बनाने में हमें,
क्यों की तुमने साजिश,
देकर कटी हुई पंख,
भर दी ऊँचा उड़ने की ख्वाहिश,
थामना चाहती हूँ मै
असमान का दामन,
बिताना चाहती हूँ
पंछियों के संग बचपन,
बहक जाता है मन
अक़्सर बादलों से मिलकर ,
चाहती हूँ मुस्कुराना ,
बिल्कुल फूलों सी खिलकर
छूकर गगन को मै,
चांदनी का आलिंगन चाहती हूँ,
जहाँ का चाँद हो बस मेरा,
वो नीला गगन चाहती हूँ,
मगर ये जो चाहत है मेरी,
जागती आँखों का सपना,
है बिल्कुल ही वैसे जैसे,
कागज के फूलों का खिलना,
बढ़ना है मुझे ,
एक ज्वाला से बचकर,
गुजरना है मुझे,
राहों के काँटों से संभलकर
न खोना है ख़ुद को
ख्वाबों के जालों में,
रखना है ख़ुद को बचाकर,
दुनिया के सवालों से,
अब तो बस इतनी सी है चाहत
अपने हिस्से की जमीन और अस्मा मांग लाऊं,
अनंत को मान लूँ सीमा,
क्षितिज तक भी पहुंच जाऊँ

Monday, August 24, 2009

छलावा

निगाहें है बड़ी कातिल,
हँसी भी जानलेवा है,
बहक तू यूँ न मेरे दिल,
ये पल भर का छलावा है
मिलती है जो ऑंखें हमारी उनकी आँखों से,
इन आँखों पर झट से पलकों का परदा गिर जाता है
पर ये ऑंखें है बेपर्द क्यूँ इतनी,
इन बेपर्द आँखों का न जाने क्या इरादा है
नज़र बेचैन लगते हैं
पर लव क्यूँ मौन लगते हैं
शरारत है ये उनकी नज़रों का,
या मेरा ख़ुद का भुलावा है
निगाहें ....
होठों की कुटिल मुस्कान पल पल रंग बदलती है
लवों पे चुप्पी रहती है
निगाहे बात करती है
अंदाजे बयां करने की क्यूँ उनकी इतनी अलग सी भाषा है
निगाहें हैं बड़ी ..........

Thursday, August 6, 2009

एक दर्द है

जाने क्यों न मिटा पाई,
उसका अक्स एह्सांसों से,
फिर क्यूँ हमें उनसे दूरी सी लगती है,
मिला था क्यूँ हमें फिर वो,
अगर यूँ ही बिछड़ना था ,
वो शख्स जिसके बिन ज़िन्दगी अधूरी सी लगती है,
मोहब्बत पाक थी मेरी खुदा की हर दुआं से,
झुका धरती पर सर अपना माँगा था उसे आसमा से
लोग ज़िन्दगी भर के साथ की बात करते है,
हमने तो अपनी मौत भी उनके ही नाम कर दी थी,
अब सच कहें तो ज़िन्दगी एक मजबूरी सी लगती है,

Friday, July 31, 2009

प्रयोजन

सागर के तट पर खड़ा मुसाफिर अपने भाग्य को रोता है,
सामने बहती है जलधारा पर वो प्यासा क्यूँ होता है?
तपती रेत पर चलते चलते,
छाया की तलाश वो करता है,
आशा की किरण जगती है उसके मन में,
कहीं खजूर का वृक्ष जब दिखता है,
पर बेकार!अपनी इस बेकार की कोशिश पर,
वो यही सोचा करता है,
सामने बहती है जलधारा पर वो प्यासा क्यूँ रहता है?
बर्फीली सर्द शामों में जब अँधेरा छाने लगता है,
अंधेरे का ये सन्नाटा उसे रौशनी की याद दिलाने लगता है,
रौशन करने अपनी शामों को वो जुगनुओं को तलाश कर लाता है,
पर बेचारा इस बार भी असफलता ही हाथ लगाता है,
सामने बहती है जलधारा पर वो प्यासा ही रह जाता है.......